Saturday, August 25, 2007

हिंदी विज्ञान कथा का अतीत और वर्तमान

हिंदी में विज्ञान कथा का अतीत और वर्तमान मील के कई पत्थरों से आलोकित है.पहली विज्ञानं कथा पंडित अम्बिका दत्त व्यास ने १८८४ से १८८८ के बीच मध्य प्रदेश की तत्कालीन मशहूर पत्रिका पीयूष प्रवाह मे धारावाहिक रुप से लिखी थी जिसका नाम था - आश्चर्य वृत्तांत .फिर सरस्वती के अंक वर्ष१९०० मे चन्द्रलोक की यात्रा छपी जिसके लेखक थे केशव प्रसाद सिंह .ये दोनो कहानियाँ दरअसल जुल्स वरन के जर्नी टू सेंटर आफ अर्थ और जर्नी फ्राम अर्थ टू मून से काफी प्रभावित थीं .वरन की एक और कथा फाइव वीक इन वलून का भी प्रभाव चन्द्रलोक की यात्रा पर पड़ा था ,जिसमे कहानी का नायक एक गुब्बारे मे चांद की सैर को उड़ चलता है .आगे भी छिटपुट विज्ञान कथाओं का लेखन चलता रहा और हिंदी मे इस नवीन विधाकी कमान संभाली सत्यदेव परिब्राजक ,आचार्य चतुरसेन शास्त्री तथा राहुल सांकृत्यायन ,डाक्टर सम्पूर्णानंद सरीखे मनीषियों ने.चतुरसेन शास्त्री का खग्रास और सांकृत्यायन की बाइस्वी सदी [१९२४]कालजयी रचनाये हैं आगे डाक्टर नवल बिहारी मिश्र और यमुना दत्त वैष्णव अशोक का भी इस विधा के उन्नयन मे काफी योगदान रहा.डाक्टर नवल बिहारी ने जहाँ विदेशी विज्ञान कथाओं के हिंदी अनुवाद की कमान संभाली वैष्णव जी ने मौलिक विज्ञान कथाओं का ताना बाना बुना
विज्ञान कथाओं के लेखन की सतत शुरुआत पिछली सदी के सातवें दशक से दिखाई देती है जब कैलाश शाह ,देवेन्द्र मेव्वाडी ,शुकदेव प्रसाद आदि ने इस विधा को अपनी लेखनी का स्पर्श दिया ..इस समय के रचनाकारों के बारे मे मैं पहले लिख चुका हूँ .भारतीय विज्ञान कथा लेखक समिति कि स्थापना १९९५ मे फैजाबाद मे हुई जिसने विज्ञान कथा लेखन को संगठित स्वरूप देने का प्रयास आरम्भ किया है.डाक्टर राजीव रंजन उपाध्याय इसके अद्यक्ष और इस नाचीज को इसके संस्थापक सचिव का गुरुतर किन्तु प्रिय कार्य भार मिला है .

7 comments:

  1. अरे वाह। हिन्दी में और भी लिखिये। यहां पर हिन्दी ब्लॉग फीड एग्रेगेटर की सूची है। उनको भी बतायें पर इनके साथ शर्त यह है कि हिन्दी में लिखें। आप अंग्रेजी में भी लिखें और उसका अनुवाद हिन्दी में लिखें। इससे आप हिन्दी चिट्ठाकारों से भी जुड़ सकेंगे।

    ReplyDelete
  2. मुझे विज्ञान गल्प बहुत अच्छे लगते हैं, आप लिखते रहिये हिन्दी या अंग्रेजी मे, हाम पढ़्ते रहेन्गे।

    ReplyDelete
  3. हिन्दी ब्लॉगिंग मे आपका स्वागत है।यदि आप लगातर हिन्दी मे ब्लॉगिंग मे करने का मन बनाते है तो आप अपना ब्लॉग नारद पर रजिस्टर करवाएं। नारद पर आपको हिन्दी चिट्ठों की पूरी जानकारी मिलेगी। किसी भी प्रकार की समस्या आने पर हम आपसे सिर्फ़ एक इमेल की दूरी पर है।

    ReplyDelete
  4. एक वृहद पाठक वर्ग आपका स्वागत कर रहा है. आशा है आप हिन्दी में रोचक कथाएं लिखते रहेंगे. हम है ना पढ़ने को.

    ReplyDelete
  5. अरविन्द जी,

    हिन्दी चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है। बहुत खुशी की बात है कि दिन प्रतिदिन हिन्दी चिट्ठाकारी में नये आयाम जुड़ रहे हैं। विज्ञान गल्प हिन्दी में यहाँ तक आपके माध्यम से पहुँचेगा, आप साधुवाद के पात्र हैं।

    ReplyDelete
  6. आपने सार संक्षेप के रूप में अच्छी जानकारी दी है। बधाई स्वीकारें। आशा है विज्ञान कथा के बारे में आगे भी ऐसे ही जानकारी परक सूचनाएं देते रहेंगे।

    ReplyDelete
  7. Aapne bahut achchhee tareeke se saaree baat samjhaayee hai. badhaayi.

    ReplyDelete

If you strongly feel to say something on Indian SF please do so ! Your comment would be highly valued and appreciated !