Saturday, September 13, 2014

Report of the 14th Science Fiction Conference in Kochi, India


Popularizing Science Writing and Celebrating Science Fiction: A Report of the 14th Science Fiction Conference in Kochi, India .
(First appeared in Locus, Locus June 2014, VOL 72 NO 2)

M.H. Srinarahari 

Seated: N.D. Ramakrishnan, Dominic Alessio, C.G. Ramachandra Nair, A.P. Helen, T.P. Srinivasan, Rajashekharan Pillai, K.S. Purushothaman, Frank Roger,Krishnan Kutty, Arvind Mishra, M.H. Srinarahari.

The Indian Association for Science Fiction Studies (IASFS) organized the 14th science fiction conference in collaboration with the Department of English of St. Teresa’s College in Kochi, February14-16, 2014 at Kerala State in India. The state has the highest literacy in the country, with Malayalam as the spoken language. It is astonishing to note that no remarkable contribution has yet been made by Keralites to the SF genre. IASFS hoped to create a platform for the younger generation to be exposed to SF through the world conference. During the inaugural session, in his annual report on IASFS, General Secretary M.H. Srinarahari mentioned that in 1988 the magazine 2001 from New Delhi ran an interview conducted via satellite with Isaac Asimov in the US. The interview was

carried out by the team of Mukul Sharma (Editor, 2001 ), Chandan Mitra (coordinator), and The Times of India assistant editor Jug Suraiya. That interview marked the beginning of the second wave of the World Science Fiction movement in India. Exactly a decade later, the Indian Association for Science Fiction Studies was established, on January 2, not only Asimov’s birthday but also the centennial of the publication of Indian SF work ‘‘Agosh’’ by scientist Jagadishchandra Bose. IASFS promotes research work in the field of SF. It has organized 11 National conferences, at Chennai, Gandhigram, Pondicherry, Aurangabad, Bangalore, and Mysore.

The three world conferences were held consecutively at Coimbatore, Pune, and Kochi.After the traditional invocation, former Ambassador, vice-chairman, and executive head of Kerala State Higher Education Council T.P. Srinivasan lit a lamp symbolizing the inauguration of the conference. In his speech he imagined how scientific progress would progress in the next 50 years. He predicted highly sophisticated vehicles which would transport him to the venue of the conference without the present traffic jams, and indicated that on his arrival at the venue, his thoughts would have been transformed into a written speech in any desired language. He also foresaw that the massage between the real and the virtual worlds would be narrowed. The executive vice president and ex-officio principal secretary of Kerala State Council of Science & Technology Education Rajashekaran Pillai delivered the presidential address narrating how the state government programs have been successful in popularizing science writing.

In his keynote address, Dr. Ramachandran Nair not only tried to define SF but also went back to 500 BC, when an ancient Indian scripture Yoga Basista made attempts to introduce SF elements in his creations. He acknowledged the works of Jules Verne, Arthur C. Clarke, Raymond Jones, John Christopher, Frederic Brown, John Wyndham, Robert Heinlein, Daniel Keyes, Tom Godwin, Clifford Simak, Fritz Leiber, Isaac Asimov, and Jayanth Narlikar, and spoke about the contribution of British and American SF writings in the growth of the genre. He drew the conclusion how SF has moved from possibility to plausibility. IASFS President Purushothaman highlighted the

gradual increase in the number of participants from the first conference until today. Malayalam science writer Krishnan Kutty and SF writer Arvind Mishra were honored on this occasion. Speaking on the occasion, Mishra appreciated the years of efforts of IASFS in bringing all the SF aspirants together in the country.Frank Roger, a leading SF writer from Belgium, said that he had attended a number of conferences in North America, but this was his first in India. Alessio Dominic, a history professor & dean of international programs from Richmond American International University in London, expressed his happiness in finding the present conference to be unique compared to others. Dr. Helen, the principal of the college, highlighted the achievements of the students during its 125 years of establishment. Dr. Celine welcomed the gathering, and Dr. Renuka gave the vote of thanks.

There were eight plenary sessions during the three-day conference. Professor Rangarajan spoke on ‘‘The Signs of Science Fiction and Nebulous Itineraries’’. In his speech he tried to trace the history of science from Homer’s Iliad. Dr. C.G. Ramachandra Nair, former chairman, of the Science, Technology, Environment committee and ex-officio Secretary to the government of Kerala and former dean of the Faculty of Science at the University of Kerala spoke on ‘‘The Enchanting Worlds of Modern Science Fiction’’. Atanu Bhattacharya spoke on Bengali SF and explained how different the Indian atmosphere is in the development of SF compared to the West, as the English departments in Indian Universities are still skeptical in considering SF as a research topic. The luminaries of the Malayalam SF sessions were Professor Babu Joseph, Professor S. Shivadas,Professor V.P.N. Namboodiri, Dr. Ambatt Vijayakumar, G.S. Unnikrishnan, and P.N. Krishnankutty. Professor Thomas Mathew chaired the session.


G.S. Unnikrishnan, a leading science writer in Malayalam, spoke on ‘‘Writing Science for Children of the New Age’’. He expressed the utmost importance of creating future scientists and scientific enthusiasts during this super-scientific age. Science literature in our country has to become better equipped to meet this challenge. He observed that since the children are already exposed to the media, media should cater to their needs. Science writers should shift to new ways and styles of writing rather than sticking to the traditional Chandamama style of writing. Being a science writer, Unnikrishnan thinks one should be choosy in selecting topics, and should make use of broad-based ideas, primary sources, focusing on a particular point, re-organizing the ideas, enjoying the research, and writing about what is interesting for the author. Sharing his personal experience, he suggested that different methods of writing fiction and non-fiction matter. In his lengthy speech, the agricultural official suggested that for successful writing one has to think like a child, play with words, bring conversations, and try unusual formats like turning the straight narrative into a mystery, a quiz, show, a puzzle, or some other innovative mode. While doing so, one has to link new information to something kids already know. He suggested using storytelling techniques, making use of reliable sources, and knowing one’s own market. Lastly, Unnikrishnan suggested that good science books need to be translated from English into the Indian vernacular languages. He has observed that translated works on topics like DNA, satellites, immunology, light, and planet Earth are liked by children.

Another science writer, Malayalam Shivadas,initially established how effective fiction writing is and called for writers to shift their writing from the traditional form to one which inspires, imparts lofty feelings, induces great ideas, and uplifts human mind. Citing the attempts made by P.T. Bhaskara Panicker and N.V. Krishna Warrier, the pioneers in establishing Kerala Sastra Sahitya Parishad, he acknowledged the way they inspired authors to write for children. Speaking about the latest trends in science writing in the Malayalam language, Shivadas observed increases in eco-spirituality and ecological ethics in stories. Dominic Alessio presented a paper on ‘‘Re-thinking the History of Science Fiction, Space Exploration from a British Colonial Perspective: The Tale of New Zealand’s The Great Romance (1881)’’. The first volume accounts the 19th-century protagonist John Brenton Hope, who awakes after 193 years of deliberate chemical sleep and discovers a wonderful future society replete with mechanical marvels, immense orderly metropolises, and a beautiful young woman named Edith Weir. Though the second volume is a continuation of the journey, it describes the spaceship Star Climber

which helps colonize Venus. Alessio discovers that this is the first work in the history of science fiction which seriously deals with colonization and alien species in particular. Speaking on his ‘‘life in science fiction,’’ Frank Roger said that he got introduced to SF at age 14. At that time Philip K. Dick and J.G. Ballard were his favorite authors. The former made use of philosophy and the latter made a powerful impact on Frank with his poetic style, original treatment of ideas, and avoidance of traditional themes and formats. Being in Belgium, he learned Dutch, English, and French, and experimented with SF writing in different languages, resulting in the production of more than 500 SF short stories to date. He made notes on whatever he observed during his journeys and when meeting people, and a few have been used in short stories. His new book The Burning Woman is the result of an observations made when he was 17. His works are typically Belgian in nature, very international in scope, and have been translated into 40 languages.

Two SF books written in the English language were released during this event, one by a young writer and the other by a veteran SF writer. The Greek Mission (2013) by 14-year-old Venkatesh Vijay is published by Penguin India. The Blake brothers are archeologists who travel to the future, and to the God’s world. Bhoosnurmutt’s ‘The Art and Craft of SF/F Writing’ (2014), published by Vaibhavi Prakashana, deals with the ideas, format, and techniques of writing stories.

An interview with SF writers from different vernacular languages was arranged in one of the sessions. Dr. Arvind Mishra (Hindi), Venkatesh Vijay (English), Rajashekhar Bhoosnurmutt (Kannada), Nellai S. Muthu (Tamil), N.D. Ramakrishnan (Malayalam), Frank Roger, and Dr. Dominic Alessio took part in the session. The topics discussed included what is and what is not SF, forms of SF, and how each of the interviewees became SF writers.The session generated maximum interaction from the delegates and dignitaries. Srinarahari summarized and gave the concluding remarks.

James E. Gunn, founding director of the Center for Science Fiction Studies at Kansas University, was to be the conference’s Guest of Honor. Gunn said he accepted the invitation because he wanted to meet Srinarahari, who has been in constant touch with him for two decades, during his days as an Asimov scholar. Due to health reasons, Gunn could not attend, but recorded a speech that was played during the conference, in which he saluted the tremendous progress of the genre in India in a short span of time. One of the interesting aspects of SF is the way the development of the genre took shape in different countries. According to Gunn’s theory, the acceptance of science fiction is related to industrial revolution and the way it changes people’s lives.

The industrial revolution changed the course of civilization, and people’s attitudes toward existence. Writers recognized that the nature of existence was being changed by science and technology and responded with stories speculating about those changes. Mary Shelley from Britain, Edgar Allan Poe from the US, Jules Verne from France, and H.G. Wells from Great Britain all wrote stories contributing to the development of the genre. Gunn discussed the types of stories published from the pulp age, including detective, love, and weird fiction, and then to the non-pulp quality of stories published under the guidance of John W. Campbell and others.

He drew special attention to the turning point of Michael Moorcock’s editing and writing in Great Britain. The New Wave shifted the emphasis from the exploration of the outer world to the inner world. At the same time, novels shifted from magazine to book publication, and the number of books produced increased every year. Speaking about later movements, he explained in detail the cyberpunk movement pioneered by William Gibson. Praising the part played by present-day SF magazines, Gunn said the magazines still play a vital role in providing new ideas and introducing new authors. He mentioned a few magazines in particular, namely Hayakawa’s SF Magazine of Japan, China’s science Fiction World, and Britain’s Interzone. Throwing light on the digital revolution and online publications, Gunn observed that many authors were taking on multiple roles like editor and publisher, raising the question of how to maintain quality in a world where information is often freely accessible. Gunn asserted that SF gave him enough imagination, suspense, adventure, speculation, and unique ideas in his childhood to allow him write it, teach it, and write about it for the rest of his life. He hopes that SF will continue to entertain, instruct, and inspire further. Concluding his speech, Gunn quoted Fred Pohl’s remarks from a convention in Hungary where he said that SF has the ability to make us all brothers. He called SF the literature of the human species, and said we are its citizens and its custodians.

One hundred and five papers were presented during the conference. Dr. Srinarahari, Dr. Panneer Selvam, and every member of the faculty of English at St. Teresa’s College chaired the sessions. As movies are easily accessible over the net and are captivating for the young, papers presented on science fiction movies out numbered other forms. Films discussed include Avatar, Hancock, Ender’s Game Signs, War of the Worlds, Transformers, ET, I am Legend, Resident Evil Series, Quarantine Terminal, The Matrix, The Matrix Reloaded, The Matrix Revolutions, Jurassic Park, Gravity, 12 Monkeys, The Last Man on Earth, Oblivion ,Solaris, Prometheus, The Rise of the Planet of Apes, Slither, Enthiran, Star Wars: The Phantom Menace, and others.

Various literary theories and approaches were discussed about the following works: Mary Shelley’s Frankenstein, Jules Verne’s20 ,000 Leagues under the Sea and Journey to the Centre of the Earth , Salman Rushdie’s Grimus , Robinson’s Red Mars , Dune: use Atreides by Kevin J Anderson & Brain Herbert, Aldous Huxley’s Brave New World , Ursula K. Le Guin’s The Left Hand of Darkness, Ian McEwan’s short stories, Isaac Asimov’s I Robot and Foundation series, William Gibson’s Neuromancer , Richard K. Morgan’s Altered Carbon , Neal Stephenson’s Snow Crash ,Margaret Atwood’s The Handmaid’s Tale , Robert Louis Stephenson’s Dr. Jekyll and Mr. Hyde The Calcutta Chromosome by Amitav Ghosh, Hadrian’s Eve’s Tomb , George Orwell’s 1984 ,H.G. Wells’s The Time Machine and The Invisible Man,Fahrenheit 451 by Ray Bradbury, and the works of Jayanth Narlikar, Niranjan Ghate, and Bal Phondke, as well as C. Radhakrishnan’s Ullil Ullathu . .

There were also papers on ‘‘Fictionalizing Science’’, ‘‘Science Fiction: Importance and Future’’, ‘‘Prophesying Life and Technology’’, ‘‘SF in Malayalam’’, ‘‘Hindi SF’’, ‘‘Kannada SF’’, ‘‘Marathi SF’’, ‘‘Science Fiction in Class room Teaching’’, ‘‘Science fiction in ancient Indian myth’’, ‘‘Artificial Intelligence’’, ‘‘Humanizing Robots’’, ‘‘ExtraTerrestrials’’, ‘‘Worlds of Imagination’’ and others.

Scholarly papers were presented by teachers and students of different faculties from Kerala, Tamilnadu, Karnataka, Andhra Pradesh, Maharashtra, Uttara Pradesh, Gujarath, Pondicherry, West Bengal gal, and Delhi. The common experience among the participants is that science fiction has no barriers of age, creed, race gender, qualification, experience, countries, borders, and others. Everyone could breathe and feel SF.


With permission from Shri M.H. Srinarahari.

Friday, August 15, 2014

हेमंत द्विवेदी प्रणीत 'अग्निगर्भ' -'विज्ञान कथा कविता संकलन ' (साइंस फिक्शन पोएट्री )

कविता की एक नई विधा जो विगत कई दशकों से पश्चिमी जगत में समादृत रही है 'विज्ञान  कथा कविता' (साइंस फिक्शन पोएट्री ) कही जाती है. भारत में इस विधा की कोई नुमाईंदगी नहीं रही किन्तु अब यह  अभाव  हेमंत द्विवेदी प्रणीत 'अग्निगर्भ' विज्ञान  कथा कविता के संकलन के प्रकाशन से दूर हो गया है।  कविता संग्रह के आमुख पर भी यह मुख्य रूप से ज्ञापित है कि यह हिन्दी में विज्ञान कथा कविताओं का पहला संकलन है।  समीक्षक की स्पष्ट राय है कि हिन्दी ही नहीं यह भारत का पहला विज्ञान कथा काव्य संकलन है। इस तरह भारत ने विज्ञान कथाओं के पश्चात विज्ञान  कथा कविता के क्षेत्र में भी अपना प्रतिनिधित्व बना लिया है. 
इस कथा संग्रह के तीन भाग हैं -पहले भाग में परम्परा और विज्ञान के द्वंद्व को रेखांकित कवितायेँ  संचयित हुयी हैं तो दूसरे भाग में कविताओं को एक कथा का बैकग्राऊँड देकर रचा गया है।  जिसमें विस्मय,रहस्य और रोमांच के साथ ही मिथकीय प्रभाव परिलक्षित होता है।  तीसरा खंड सायफायकू (विज्ञान कथा हायकू ) को समर्पित है और ये कवितायेँ हायकू शिल्प में हैं।  संकलन के अंत में विज्ञान कथा कविता पर एक शोधात्मक दृष्टि है. कवि ने विज्ञान  कथा के संगठित प्रादुर्भाव को वर्ष 1978 में अमेरिका की सुजेट हैडेन एल्गिन द्वारा विज्ञान  कथा कविता संघ की स्थापना से माना है।  शोध निबंध विज्ञान कथा कविता के बोध को और स्पष्ट तथा व्याख्यायित करता है।  कई नामचीन विज्ञान कथा कविता के हस्ताक्षरों के विचार और परिभाषाएं भी  कवि ने सश्रम उद्धृत की हैं।  जैसे ग्रेग बीयर का मानना है कि विज्ञान कथा कविता मात्र विज्ञान के यशोगान की कविता नहीं है बल्कि यह समकालीन दुनिया के परे की एक कल्पना प्रसूत प्रस्तुति है बिल्कुल विज्ञान कथाओं की ही तरह।  इसका कवि के स्वयं के द्वंद्व और समकालीन परिस्थितियों पर प्रतिक्रिया से कोई लेना देना नहीं है बल्कि यह विज्ञान और प्रौद्योगिकी के संभावित सामाजिक प्रभावो की  एक कल्पित काव्यात्मक अभिव्यक्ति है।  

संकलन की कई कविताओं ने समीक्षक को प्रभावित किया जिसमें लज्जा ,सुदर्शन चक्र ,आकर्षण ,सारा आकाश , आदमकद ,अंधेरी सरहदें आदि हैं . कवि का आग्रह विकास के पथ पर अग्रसर मानव के आत्मिक ह्रास को लेकर है।  सारा आकाश में वह कहता है ... "हम चाँद और मंगल पर रहेगें ... तब चांद पर होगी जाति प्रथा मुल्कों की बस्तियों का शोषण,प्रजातंत्र अराजकता।  लम्बी कविता लज्जा में कवि अपने काव्य  कल्पना लोक के प्रथम परग्रही का  इस धरती पर आवाभगत इसलिए नहीं कर पाता कि एक धरतीवासी के रूप में उसके मन की कई दुश्चिंताएं उसे ऐसा करने से हठात रोक लेती हैं।  कविता उसके इसे पश्चाताप को अंतिम पंक्तियों में ध्वनित करती है -इस अगस्त्यों ,सूफियों संतों ,लामाओं की भूमि पर कोई एक कोना न मिला मुझको जहां कुछ पल साये में किसी दूसरी जमीन से आये अपने मेहमान को मैं दो सूखी रोटियां खिला सकूँ इसलिए मैं आज तक लज्जित हूँ....
हिन्दी विज्ञान कथा काव्य की इस अभिनव प्रस्तुति का स्वागत किया जाना चाहिए।  
पुस्तक विवरण: 
अग्निगर्भ 
आधारशिला प्रकाशन ,बड़ी मुखानी ,हल्द्वानी 
नैनीताल -263139 
पृष्ठ -141 
प्रकाशन वर्ष : 2013

Saturday, March 22, 2014

कुम्भ के मेले में मंगलवासी -समीक्षाएँ

देवेन्द्र मेवाड़ी
नेशनल बुक ट्रस्ट, इंडिया से डा. अरविंद मिश्र की विज्ञान कथाओं का सद्यः प्रकाशित संकलन ‘कुंभ के मेले में मंगलवासी’ पढ़ने का सुखद मौका मिला। सुखद इसलिए कि एक अरसे बाद एक अनुभवी और संवेदनशील विज्ञान कथाकार की भारतीय विज्ञान कथाएं पढ़ने को मिलीं। कभी मैं उनकी विज्ञान कथाओं का प्रथम पाठक हुआ करता था। वर्षों पहले अपने लंबे पत्र-संवादों में हम हिदी में विज्ञान कथाओं की कमी और इस कथा विधा के स्वरूप पर गंभीर चर्चा किया करते थे। तब एक बार मैंने ‘भारतीय विज्ञान कथा’ की बात की थी तो डा. अरविंद ने पूछा था, ‘भारतीय विज्ञान कथा से आपका क्या तात्पर्य है? विज्ञान कथा तो वैश्विक होती है।’ मैंने कहा था, ‘ऐसी विज्ञान कथा जिसमें भारतीय समाज की संवेदनाएं हों।’ आज ‘कुंभ के मेले में मंगलवासी’ संकलन की भारतीय विज्ञान कथाएं पढ़कर मन प्रसन्न हो गया।

दो दशक पूर्व हम दोनों के रचनात्मक निर्माण के दिन थे। हिंदी विज्ञान कथा के संबंध में एक बार डा. अरविंद मिश्र ने अपने पत्र-संवाद में मुझे लिखा था, “क्या विज्ञान कथाओं में भड़कीले यंत्रों की क्रिया-विधि, उनकी वनावट और कल-पुर्जों की लंबी-चौड़ी दास्तान अहमियत रखती है? बिना इसके वैज्ञानिक कहानी क्या सच्ची विज्ञान कथा नहीं बन सकती? मैं सोचता हूं, आपका जवाब होगा, नहीं, वैज्ञानिक कहानी के लिए यंत्र-तंत्र का ताम-झाम कोई जरूरी नहीं। जी हां, सही फरमाते हैं आप। अगर हम विज्ञान कथा को इस रूप में देखें तो वह हमारे भविष्य के ‘बदले’ हुए समाज के सोच, संस्कृति, रहन-सहन, संस्कारों को किस हद तक रूपायित करती है, तभी शायद हम एक सच्ची विज्ञान कथा का सृजन कर सकते हैं। और, इसके लिए वैज्ञानिक अनुसंधानों, यंत्रों की विशद जानकारी के बजाए इस ट्रेंड पर ध्यान केंद्रित करना होगा, जिनसे इन तकनीकी उपलब्धियों के चलते समाज में बदलाव की प्रक्रिया को बल मिलता है। उसके रहन-सहन में कहां तक बदलाव आता है, समाज और व्यक्ति विशेष के नजरिए में क्या फर्क आता है? उसकी अपनी अभिव्यक्ति कहां तक प्रभावित होती है? उसके रिश्ते-नातों पर क्या असर पड़ता है? उसकी मूलभूत भावनाएं कहां तक छूती-अछूती रह पाती हैं? उसके संस्कारों की बेड़ियां क्या और कसती जाती है या टूटनी आरंभ होती हैं, और वह बिल्कुल स्वतंत्र हो जाता है? खुद अपने से भी स्वतंत्र? अपनी देह से भी मुक्ति क्या संभव हो सकेगी? पर, शर्ते यह है कि ज़िदा होने की अनुभूति बनी रहनी चाहिए। क्या हम इन सभी आयामों को विज्ञान कथा के कैनवस में समेट नहीं सकते? शायद भारतीय संदर्भ में एक सच्ची विज्ञान कथा वही होगी जो इस पृष्ठभूमि के साथ न्याय करती हो। (अरविंद मिश्र, 15 जनवरी 1992, बंबई)

खुशी है कि डा. अरविंद मिश्र, ने इस संकलन में इन तमाम बातों को ध्यान में रख कर भारतीय संदर्भ की सच्ची कहानियां लिख कर इस पृष्ठभूमि के साथ न्याय किया है।

संकलन की कहानियां विविध विषयों पर लिखी गई हैं जिसके कारण इनमें से हर कहानी का अपना अलग स्वरूप और पृथक पहचान बन गई है। ये विज्ञान कथाएं उम्र पर नियंत्रण से लेकर साइबर वल्र्ड में अपराधी की पहचान, जीवन खो चुके ग्रह की एकमात्र प्रतिनिधि की त्रासदी, भविष्य में टिहरी के भूकंप से गंगा के लुप्त हो जाने और नदी महाजल योजना से उसे पुनः प्रवाहमान बनाने, भारतीय परंपरा व संस्कारों के दर्शक एलियन, समाज में माता-पिता और अन्य बुजुर्गों से दूर होती जा रही संतानों, देह से परे-चेतना के अस्तित्व, टाइम मशीन से भविष्य में जाकर जीन षड्यंत्र को विफल करने के प्रयास, चुनाव में प्रौद्योगिकी विकास का झांसा देकर सत्ता हथियाने के कुचक्र, जीन रूपांतरित बीजों से पैदा हुई किसानों की विवशता और उनके शोषण, यम के बहाने समय को परिभाषित करने और जैव प्रौद्योगिकी की तकनीक से मनचाही संतान पैदा करने का परिणाम आदि समस्याओं पर लिखी गई हैं। इन कथाओं में हमारा देश-काल, हमारी परंपराएं, सोच और समस्याएं परिलक्षित होती हैं। इन्हें पढ़ते हुए हम कहीं न कहीं अपनी जमीन से जुड़े रहते हैं।

संकलन की विज्ञान कथाएं हैं: अलविदा प्रोफेसर, अंतर्यामी, अंतिम संस्कार, कुंभ के मेले में मंगलवासी, मोहभंग, चिर समाधि, अमरावयम, सब्जबाग, अन्नदाता, स्वप्नभंग और आगत अतीत। लेखक ने भूमिका के रूप में विज्ञान कथा विधा के उत्तरोत्तर विकास का भी चित्रण किया है। डा. अरविंद मिश्र ने विज्ञान कथा साहित्य का गंभीरता पूर्वक स्वाध्याय किया है और उनमें इस विधा में अपने चिंतन से मौलिक सृजन करने की मेधा है। जैसा कि मैं उनसे सदा कहता रहा हूं- उन्हें विज्ञान कथा के सृजन पर अपनी और अधिक ऊर्जा केन्द्रित करनी चाहिए। (हालांकि वे भी मुझसे यही अपेक्षा करते रहे हैं)। हिंदी विज्ञान कथा साहित्य को उनसे बहुत उम्मीदें हैं। इस दिशा में उनकी हर रचना हिंदी साहित्य की श्रीवृद्धि करेगी और यह उनका ऐतिहासिक योगदान होगा।

हिंदी विज्ञान कथाओं के वीरान रेगिस्तान में इस नखलिस्तान के प्रकाशन के लिए नेशनल बुक ट्रस्ट, इंडिया को हार्दिक बधाई।


डॉ. ज़ाकिर अली रजनीश

हिन्दी में विज्ञान कथा की परम्परा यूं तो 100 साल से भी अधिक पुरानी है, किन्तु आज भी विज्ञान कथाकारों के नाम उंगलियों पर गिने जा सकते हैं। जिस प्रकार हिन्दी की प्ररम्भिक विज्ञान कथाएं (आश्चर्य वृत्तांत-अम्बिका दत्त व्यास, 1884-88 एवं चंद्रलोक की यात्रा-केशव प्रसाद सिंह, 1900) पाश्चात्य विज्ञान कथाकारों की रचनाओं से प्रभावित रहीं और हिन्दी की मौलिक विज्ञान कथा (आश्चर्यजनक घण्टी- सत्यदेव परिव्राजक, सन 1908) के सामने आने में काफी समय लगा, उसी प्रकार आज भी विज्ञान कथाएं तो यत्र-तत्र देखने को मिल जाती हैं, किन्तु मौलिक और प्रभावी विज्ञान कथाओं को पढ़ने के लिए काफी इंतजार करना पड़ता है।

ऐसे परिप्रेक्ष्य में ‘कुंभ के मेले में मंगलवासी‘ नामक विज्ञान कथा संग्रह का सामने आना एक सुखद अनुभूति है। इस विज्ञान कथा संग्रह के लेखक डॉ0 अरविंद मिश्र विज्ञान कथा के चर्चित हस्ताक्षर हैं और सम्प्रति भारतीय विज्ञान कथा लेखक समिति के सचिव भी हैं। आलोच्य संग्रह नेशनल बुक ट्रस्ट जैसे प्रतिष्ठित संस्थान से प्रकाशित हुआ है, जो देश के कोने-कोने में अपनी पहुंच और पुस्तकों को कम दाम पर जन-जन तक पहुंचाने के लिए जाना जाता है।

आलोच्य विज्ञान कथा संग्रह में कुल 11 विज्ञान कथाएं संग्रहीत हैं, जो अपने भिन्न-भिन्न विषयों और रोचक प्रस्तुति के कारण पाठकों को सहज रूप में आकर्षित करती हैं। ये कहानियां जहां एक ओर जेनेटिकली माडिफायिड आर्गेनिज्म के रूप में एक एलियेन सभ्यता की विवशताओं को सामने लाती (अंतिम संस्कार) हैं, वहीं दूसरी ओर हमारी राजनीतिक विद्रूपताओं (सब्जबाग) को भी अपने कथानक में समेट लेती हैं।

इसके साथ ही मनुष्य की शैशवावस्था को शीघ्र पूरा करने की जुगत (अलविदा प्रोफेसर), अपने जातीय पहचान को अमर करने की ललक (अमरा वयम), वैज्ञानिक खोजों की सीमाओं (आगत अतीत) और जीन प्रौद्योगिकी के खतरों (अन्नदाता) सहित सामाजिक अपराधों और उनका निवारण (अन्तर्यामी) और मानव मन की जिज्ञासाओं (स्पप्नभंग) को भी रोचक कथानकों से कहानियों में पिरोया गया है।

इन कहानियों में जो चीज सबसे ज्यादा आकर्षित करती है, वह है सांस्कृतिक प्रतीकों और पौराणिक घटनाओं का कुशलतापूर्वक उपयोग। हो सकता है इस बिन्दु को लेकर लेखक पर यह आक्षेप भी लगाए जाएं कि कहीं यह विज्ञान पर धर्म की श्रेष्ठता को स्थापित करने का प्रयत्न तो नहीं, पर बावजूद इसके यह कहानियां पाठकों को बांधती हैं, उनका मनोरंजन करती हैं, उनका ज्ञानवर्द्धन करती हैं, उन्हें बेधती हैं और कई बार सोचने के लिए भी विवश करती हैं। यह डॉ0 मिश्र की अपनी विशिष्ट शैली है, जो अन्यत्र बहुत कम देखने को मिलती है।

इससे पूर्व भी डॉ0 मिश्र प्रणीत ‘एक और क्रौंचवध‘ तथा ‘राहुल की मंगल यात्रा‘ विज्ञान कथा संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं और विज्ञान कथा प्रेमियों में काफी सराहे गये हैं। आलोच्य विज्ञान कथा संग्रह उसी कड़ी की एक अभिनव प्रस्तुति है, जो लम्बे समय तक एक श्रेष्ठ प्रतिनिधि भारतीय विज्ञान कथा संग्रह के रूप में अपनी पहचान बनाए रखेगा .

नेशनल बुक ट्रस्ट ने अपनी ख्याति के अनुरूप पुस्तक को शानदार कलेवर में प्रस्तुत किया है और मात्र 55 रुपये में इसे उपलब्ध कराकर विज्ञान कथा प्रेमियों को एक शानदार तोहफा प्रदान किया है। इस रोचक कथा संग्रह के लिए लेखक और प्रकाशक दोनों ही बधाई के पात्र हैं।
पुस्तक- कुंभ के मेले में मंगलवासी
लेखक- डॉ. अरविंद मिश्र
प्रकाशक- नेशनल बुक ट्रस्ट, नेहरू भवन, 5, वसंत कुंज, इंस्टीट्यूशनल एरिया, फेज-2, नई दिल्ली-110070
पृष्ठ सं.- 69
मूल्य- रू. 55 मात्र।


Thursday, February 20, 2014

केरल में संपन्न हुआ अंतराष्ट्रीय विज्ञान कथा सम्मलेन

विगत १४-१६ फरवरी २०१४ को केरल राज्य के एर्नाकुलम शहर के प्रतिष्ठित संत टेरेसा कालेज में "ऐन इन्टरनेशनल कांफेरेंस आन पापुलैराईजिंग साईंस रायटिंग ऐंड सेलिब्रेटिंग साईंस फिक्शन " थीम पर आयोजित कार्यक्रम केरल राज्य में  अपने ढंग की अनूठी पहल रही। भारत के विभिन्न प्रांतों और भाषाओं -हिंदी, मलयालम ,तमिल ,तेलगू ,कन्नड़ ,मराठी ,बंगाली आदि के प्रतिनिधियों और विदेशी विज्ञान कथाकारों /समीक्षकों ने इसमें प्रतिभाग किया।  लन्दन के रिचमोंड अमेरिकन इंटरनेशनल युनिवेर्सिटी से प्रोफ़ेसर डोमिनिक अलेसिओ  और बेल्जियम के सुप्रसिद्ध विज्ञान  कथाकार फ्रैंक रोजेर  आयोजन के प्रमुख केन्द्रबिंदु रहे। उद्घाटन सत्र में अरविन्द मिश्र  और पी एन कृष्णन कुट्टी(मलयालम)  को विज्ञान कथा के उनके सुदीर्घ योगदानों के लिए अंगवस्त्रम प्रदान कर सम्मानित किया गया।  केरल राज्य के सबसे युवा विज्ञान कथाकार वेंकटेश विजय को उनके पेंगुइन इंडिया द्वारा प्रकाशित कृति "द ब्लेक्स :द ग्रीक मिशन " पर सम्मानित किया गया।  डॉ राजशेखर भूसनूरमथ की सद्य प्रकाशित विज्ञान कथा पुस्तकों -न्यूटन्स कैट और आर्ट ऐंड क्राफ्ट ऑफ़ साईंस फिक्शन राईटिंग का भी विमोचन इसी सत्र में किया गया।  
 उद्घाटन सत्र फ़ोटो सेशन 

आयोजन  के दौरान विभिन्न सत्रों में लगभग डेढ़ सौ पर्चे विभिन्न समान्तर सत्रों में पढ़े गए जो विज्ञान कथा के विभिन्न पहलुओं को समाहित किये हुए थे। मुख्यतः विज्ञान कथाओं के शिल्प और स्वरुप , रामराज्यीय संकल्पनाएँ (युटोपिया) और नारकीय परिदृश्यों (डिस्टोपिया) , मिथकों और विज्ञान कथा के अंतर्संबंधों,  विज्ञान  कथाओं में आशावाद और निराशावाद आदि पर पढ़े गए शोध पत्रों पर व्यापक चर्चा हुयी।  सबसे अधिक जोर विज्ञान  कथा को परिभाषित करने पर रहा किन्तु जैसा कि अपेक्षित था इस विधा की कोई सर्वमान्य परिभाषा नहीं उभर सकी। केरल में अब तक विज्ञान की खोजों/अन्वेषणों को भी कहानी के माध्यम से प्रस्तुतीकरण को विज्ञान कथा माना जाता रहा है जो वस्तुतः इस विषयक वैश्विक मान्यता से विपरीत है , विज्ञान कथायें दरअसल मौजूदा/समकालीन  समाज ,प्रौद्योगिकी आदि की चर्चा के बजाय किसी सर्वथा अनदेखे समाज और दुनिया का काल्पनिक चित्रण करती हैं।  भले ही वे मौजूदा समाज और प्रौद्योगिकी से वे प्रेरित हुयी हों।  जबकि सी एम् एस कालेज कोट्टायम के सेवा निवृत्त प्रोफ़ेसर एस शिवदास का प्रबल मत था कि " कोई भी फिक्शन जो विज्ञान का प्रभावी संचार करता हो विज्ञान कथा का एक मॉडल है" . जबकि केरल के ही सुप्रसिद्ध विज्ञानं संचारक जी  एस उन्नीकृष्णन नायर का मत इसके विपरीत था और उनके अनुसार भविष्य दर्शन विज्ञान कथाओं का एक अनिवार्य तत्व है।  इस मामले में प्रतिभागियों और श्रोताओं के बीच कई बार गर्मागर्म किन्तु निष्कर्षहीन बहस हुयी।


श्री टी पी श्रीनिवासन (आई.ऍफ़ एस एवं पूर्व राजदूत ) ने अरविन्द मिश्र को सम्मानित किया
एक सत्र विज्ञान कथाकारों के बीच एक परिचर्चा को समर्पित रहा जिसकी अध्यक्षता अरविन्द मिश्र  ने की।  इसमें डॉ राजशेखर भूसनूरमथ (कर्नाटक ) ,डॉ एम् के प्रसाद , डॉ डोमिनिक अलेसिओ ,फ्रैंक रोजेर , एन डी रामकृष्णन , संतोष कुमार (कर्नाटक ) नेल्लई एस मुत्थु (तमिलनाडु ) ,पी एन कृष्णकुट्टी ,वेंकटेश विजय आदि सम्म्लित रहे।  मुख्य विचार बिंदु यह रहा कि क्या विज्ञान कथा के कुछ सार्वभौम संकेतक नियत हो सकते हैं जो हर देश -काल,  परिस्थिति और समाज में मजूद हों? या फिर अपने सांस्कृतिक अवयवों के चलते वे बिल्कुल भिन्न भी हो सकती हैं ? जैसे भारतीय विज्ञान कथाएँ मानवीय संवेदनाओं से ओतप्रोत ,सुखान्त और मिथकों से प्रेरित होकर अपनी एक अलग पहचान बनाये रख सकती हैं।  विज्ञान कथाओं में मानवीय प्रेम ,सरोकार एक समान संकेतक हो सकता है जो सभी मानव कृत विज्ञान कथाओं में सहज ही समाविष्ट रह सकता है -हाँ रोबोट द्वारा लिखी विज्ञान कथा में हो सकता है मानवीय संवेदना का अभाव हो या फिर उनमें भी मानवीय संवेदनाओं का सहसा ही प्रगटन हो सकता है -इन बिंदुओं को लेकर रोचक चर्चा हुई।  

यह आयोजन भारतीय विज्ञान कथा अध्ययन समिति वेल्लोर के सहयोग से आयोजित हुआ।  इसके अध्यक्ष डॉ के एस पुरुषोत्तमन और महामंत्री डॉ श्रीनरहरि ने समिति के अवदानों की चर्चा की। केरल राज्य में इस आयोजन ने विज्ञान कथा प्रेमियों के लिए वहाँ एक नए युग का सूत्रपात किया है।  इस आयोजन में भाग लेकर मैं बहुत अच्छा अनुभव कर रहा हूँ।  

Sunday, August 11, 2013

विज्ञान कथाओं का परिदृश्य!



भारत में सदियों से कहानी कहने सुनने का प्रचलन है...दादा, दादी की कहानियाँ दर पीढ़ी बच्चों ने सुनी है, भले ही उनमें ज्यादातर परीकथाएँ रही हों मगर वे अपने समय की मजेदार कहानियाँ रही हैं.. तब मानव का विज्ञान जनित प्रौद्योगिकी से उतना परिचय नहीं हुआ था. नतीजन परी कथाओं में फंतासी और तिलिस्म का बोलबाला था मगर वैज्ञानिक प्रगति के साथ ही नित नए नए गैजेट, आविष्कारों, उपकरणों, मशीनों की लोकप्रियता बढ़ी, लोगों के सोचने का नजरिया बदला और बच्चों को भी यह समझते देर नहीं लगी कि परियाँ, तिलस्म, जादुई तजवीजें सिर्फ कल्पना की चीजे हैं। आज आरंम्भिक कक्षाओं के बच्चों को भी यह ज्ञात है कि चन्द्रमा पर कोई चरखा कातने वाली बुढि़या नहीं रहती बल्कि उस पर दिखने वाला धब्बा दरअसल वहां के निर्जीव गह्वर और गड्ढे हैं, अपनी धरती को छोड़कर इस सौर परिवार में जीवन की किलकारियां कहीं से भी सुनायी नहीं पड़ी हैं..आज मनुष्य अन्तरिक्ष यात्राएं करने लग गया है और सहसा ही अन्तरिक्ष के रहस्यों की परत दर परत हमारे सामने खुल रही है।

ब्रिटेन की औद्योगिक क्रान्ति (1750 से 1850) ने मनुष्य को सहसा ही मशीनों की ताकत का अहसास दिलाया, रेल पटरियों पर दैत्याकार भाप के इंजन वाली रेल दौड़ी तो लोगों में भय और विस्मय का संचार हुआ..स्विच दबाने मात्र से अँधरे को छूमंतर करने वाली बिजली ने विशाल मशीनों में भी प्राण फूंक दिया और उनके संचालन का जिम्मा खुद संभाल लिया। मनुष्य को शारीरिक श्रम से बच रहने और आरामदायक जीवन का विकल्प अब सामने था.. मगर तभी कुछ विचारवान लोगों के मन में शंकाएं भी उभरीं-कहीं ये मशीनें मनुष्य की अहमियत को खत्म तो नहीं कर देंगी? मतलब कहीं मनुष्य को मशीने विस्थापित तो नहीं कर देंगी ? उसे बिना काम धाम का निठल्ला तो नहीं बना देगीं ?.. और सबसे बढ़कर यह है कि कहीं मशीने खुद मसीहा तो नहीं बन उठेगीं ? कहीं वे स्वयंभू बन मनुष्य के अधिपत्य को ही तो चुनौती नहीं दे डालेंगी ? मनुष्य के यही आरम्भिक संशय जल्दी ही एक साहित्यिक अभिव्यत्ति का सूत्रपात करने वाले थे जिसे कहानी की एक नयी विधा के रूप में पहचाना जाना था, यह थी विज्ञान कथाओं (साईंस फिक्शन) की आहट.. यह उन्ही दिनों की बात है जब मेरी शेली जो जानेमाने कवि पर्सी बिसी शेली की पत्नी थीं ने अपना पहला उपन्यास लिखा था- फ्रैन्केंन्स्टीन (1818) और उसमें विज्ञान के प्रति ऐसी ही आशंकाएं मुखरित हुयी थीं, आज यह उपन्यास पहले आधुनिक विज्ञान कथा की पदवी से सुशोभित है। मशहूर अमेरिकी विज्ञान कथाकार आईजक आजिमोव (1920-1992) इसलिए ही लिखते हैं कि विज्ञान कथा साहित्य की वह विधा है जो विज्ञान और प्रौद्योगिकी के बढ़ते प्रभावों के प्रति मानवीय प्रतिक्रिया को कुरेदती है, अभिव्यक्ति देती है।

विगत दो शताब्दी के चतुर्दिक वैज्ञानिक-प्रौद्योगिक विकास ने मनुष्य के सामने अनेक रहस्यों का अनावरण किया .. उसने प्रकृति के नए रूपों, नयी शक्तियों से परिचय कराया है। अंतरिक्ष से जुड़े तमाम रहस्यों से पर्दा उठने के बाद गल्पकारों और कथा-नवीसों को फैंटेसी के लिए जैसे एक नया आयाम मिल गया.. आज शायद सबसे अधिक विज्ञान कथाएं अन्तरिक्ष पर लिखी जा रही हैं-उनको एक नया नामकरण ही दे दिया गया है स्पेस ओपेरा..मगर आज की बेतहाशा प्रौद्योगिकी-प्रगति ने मानव अन्वेषण के कितने ही नए द्वार खोल दिए हैं..आज क्लोनिंग, स्टेम सेल, नैनोटेक्नोलोजी के साथ ही दीर्घजीविता ही नहीं अमरता की भी गुत्थी सुलझााने में वैज्ञानिक दिन रात लगे हुए हैं। इन अनुसंधानों का मनुष्य के जीवन या फिर पूरे मानव समाज पर क्या प्रभाव पड़ेगा ? क्लोनिंग जैसी तकनीक अगर ओबामा बिन लादेन जैसे आतंकवादी के हाथ लग गयी तो क्या वह खुद अपना ही क्लोन बनाना नहीं चाहेगा? कुछ कुछ वैसा ही दृश्य उपस्थित नहीं हो जायेगा जैसे पुराणोक्त महिषासुर के साथ देवी दुर्गा के युद्ध में उस दानव के एक एक रक्त बूँद से एक नया महिषासुर उत्पन्न हो रहा था?.. ऐसा अगर हो जाय तो कितनी मुसीबत आ खड़ी हो जायेगी-एक ही लादेन मानवता के लिए बड़ी समस्या था.. सैकड़ो लादेन ? यह एक भयावह कल्पना है.. मगर क्लोनिंग सरीखी प्रौद्योगिकी इसे दुर्भाग्य से साकार कर सकती है क्लोनिंग पर ऐसी विज्ञान कथायें प्रकाशित हो चुकी हैं जो हमें इस तकनीक के अनेक अँधेरे उजाले पहलुओं से वाकिफ कराती हैं।

विज्ञान कथाकार हमें वैज्ञानिक तकनीकों के नकारात्मक पहलुओं से आगाह भी करता है ताकि समय रहते हम ऐसी अप्रत्याशित परिस्थितियों का सामना कर सकें-ठीक वैसे ही जैसे पुराकथाओं में कोई न कोई देवी- देवता मानवता के त्राण के लिए आ प्रगट होता है! अब पहले वैज्ञानिक उपन्यास फ्रैन्केन्स्टीन को ही ले लें- इसका भयावह दानव सरीखा पात्र खुद अपने जन्मदाता डाॅ0 फ्रैन्केन्स्टीन की ही जान लेने पर तुल जाता है और उसका धरती के कोने-कोने तक पीछा करता चलता है और आखिर जन्मदाता होने के बावजूद डाॅ0 फ्रैन्केन्स्टीन को काल कवलित होना पड़ता है- एक दुखांत कथा है यह ..मगर ऐसी ही एक कथा हमारे पुराणों में भी है भस्मासुर की जो खुद अपने वरदानदाता शिव की जान लेने को उद्यत हो जाता है. शिव भागे भागे फिरते हैं मगर अंततः विष्णु उनकी रक्षा में आ जाते हैं- कहानी सुखान्त बन जाती है भारतीय पुराण कहानियां पश्चिम की ज्यादातर दुखान्त कहानियों की तुलना में सुखान्त है- कोई न कोई यहाँ मानवता के त्राण के लिए ऐन वक्त पर आ पहुंचता है- विज्ञान कथाकारों को भी अपनी कहानियाँ में समस्याओं से निजात की संभावनाओं को उकेरना चाहिए.. यह एक विचारणीय पहलू है.

आज हमारे देश के सामने अनेक चुनौतियां हैं। गरीबी उन्मूलन, बढ़ती जनसंख्या की जरूरतों की पूर्ति सब के लिए स्वास्थ्य और साथ में प्रदूषण, ग्लोबल वर्मिंग जैसी विश्व व्याप्त समस्याएं और कितनी ही त्रासदियाँ। नागासाकी हिरोशिमा का दंश हम आज भी झेल रहे हैं- विमान जो यात्रियों को ढ़ोने के लिए बनाए गए थे अचानक बम वर्षा करने लगे.. आम लोगों को इसका तनिक पूर्वाभास न था मगर विज्ञान कथाकारों ने 1945 के पहले ही ऐसी दहशतनाक संभावनाओं की ओर इशारा कर दिया था.. और नागासाकी हिरोशिमा पर परमाणु बम गिराए जाने के बाद पहली बार लोगों ने विज्ञान कथाकारों को गम्भीरता से लेना शुरू किया.. विज्ञान कथाकार भविष्य की टोह लेने की प्रज्ञा लिए होता है वह मौजूदा प्रविधियों जुगतों पर नजर गड़ाते हुए भविष्य में इनके उपयोग दुरपयोग की संभावनाओं की आहट लेता है- और अपनी कहानियों में उनका जिक्र करता है- उसकी भविष्यवाणियां सच हो उठती हैं मगर कुछ गलत भी हो सकती हैं- वह भविष्यवक्ता थोड़े ही है, वह तो एक वैज्ञानिक पद्धति, सोच के जरिये भविष्य में झांकता है और दूर की कौड़ी ला देता है, मगर वह कोई नजूमी नहीं है।

भारत में वैसे तो विज्ञान कथायें विगत उन्नीसवी सदी से लिखी जानी शुरू हुईं जैसे अब तक की ज्ञात पहली हिन्दी विज्ञान कथा ’आश्चर्य वृत्तांत’ अम्बिका दत्त व्यास ने लिखी थी जिसे उन्होंने तत्कालीन पत्रिका पीयूष प्रवाह में धारावाहिक रूप से 1884 में लिखना शुरू किया था आगे मशहूर साहित्यिक पत्रिका ’सरस्वती’ ने वर्ष 1900 से विज्ञान कहानियों को कभी कभार प्रकाशित करना आरम्भ किया, मगर इन कहानियों पर पश्चिमी विज्ञान कथाकारों का बहुत प्रभाव था.. एक समय था जब एच-जी-वेल्स, जूल्स वर्न, एडगर एलन पो जैसे साहित्यकारों ने अपने वैज्ञानिक साहित्य द्वारा न केवल योरप और अमेरिका बल्कि सम्पूर्ण विश्व पर अपनी लेखनी का अमिट प्रभाव छोड़ा था। अनेक किशोरों ने उन कहानियों को पढ़कर वैज्ञानिक बनने का निश्चय किया और आगे चलकर देश की तरक्की में भागीदार बने। आज भी विज्ञान कथाओं पर आधारित जुरासिक पार्क, द मैट्रिक्स और स्टार वार्स जैसी फिल्मों का नाम तो बच्चे बच्चे की जबान पर है।

भारत में विज्ञान कथाओं के प्रति साहित्यकारों की जैसे एक अरूचि सी बनी रही है यद्यपि आचार्य चतुरसेन शास्त्री, डाॅ0 सम्पूर्णानन्द, राहुल सांकृत्यायन जैसे जानेमाने साहित्यकारों ने मौलिक विज्ञान कथाएं, उपन्यास लिखकर इस ओर साहित्यकारों का ध्यान आकर्षित किया था.. मगर आज भी यह विधा भारत में उपेक्षित सी ही है किन्तु अब विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भारत की बढ़ती प्रगति से ऐसी कहानियों के लिए अनुकूल माहौल बन रहा है.. हमारे नजरिये, हमारी सोच पर विज्ञान जैसे जैसे प्रभाव डालता जाएगा विज्ञान कथा साहित्य में हमारी स्वयमेव रूचि होती जायेगी.. आज स्कूलों कालेजों की एक भरी पूरी पीढ़ी ऐसे ही वैज्ञानिक परिवेश में संस्कारित हो रही है- उन्हे एक ’नए तरीके का साहित्य भायेगा, विज्ञान कथायें ही उस नए तरीके के साहित्य की भरपाई करेंगी। दरअसल विज्ञान कथा आधुनिक दौर का वह वैश्विक साहित्य है जो कल्पनाओं के नये दरवाजे खोलती है। विज्ञान कथाएं वैज्ञानिक प्रगति के सामाजिक प्रभावों का अवलोकन करती हैं और साथ ही इसके जरिये वैज्ञानिक प्रगति की सही दशा और दिशा का भी निर्धारण करती हैं ताकि विज्ञान मानव जाति के कल्याण के लिए हो, न कि विनाश के लिए। विज्ञान कथाएं विज्ञान को साहित्य और आम जनमानस से जोड़ने का एक सशक्त माध्यम भी हैं। आज अमेरिका साइंस और टेक्नालाजी के मामले में सबसे आगे है तो इसके पीछे विज्ञान कथाओं एवं सम्बन्धित साहित्य का बहुत बड़ा योगदान है।

भारत में वैज्ञानिक जागरूकता उत्पन्न करने में विज्ञान कथाएं महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकती हैं। इस विधा द्वारा न केवल आम जन मानस में वैज्ञानिक जागरूकता पैदा की जा सकती है बल्कि आम तौर पर शुष्क माने जाने वाले विज्ञान को मनोरंजन के एक शक्तिशाली साधन है। के रूप में विकसित करते हुए सम्पूर्ण देश में विज्ञानमय वातावरण बनाया जा सकता है। आज विकसित देशों के निवासी विज्ञान कथाओं व फिल्मों को अपनी पसंद में पहली प्राथमिकता देते हैं और इसीलिए विज्ञान उनके लिए शुष्क विषय न होकर मनोरंजन का साधन नतीजन वे विज्ञान के क्षेत्र में दिन दूनी रात चैगुनी तरक्की कर रहे हैं। एक सवाल ये उठता है कि विज्ञान कथाएं किस प्रकार की हों। दरअसल किसी भी विज्ञान कथा की पहली शर्त है, उसका रोचक होना। अगर इसमें भी विज्ञान का शुष्क वर्णन कर दिया जाये तो कोेर्स की किताबों और विज्ञान कथा में कोई फर्क नहीं रह जायेगा, किसी भी कथा को रोचक बनाने के लिए उसमें कुछ फ्लेवर्स मिलाये जाते हैं। जैसे जरूरत के मुताबिक नौ रसों (श्रृंगार, वीर, हास्य, रौद्र......इत्यादि) का उपयुक्त मिश्रण, कहानी का कसा हुआ उतार चढ़ाव, पात्रों व माहौल का चुनाव आदि। विज्ञान कथा उन सभी रूपों में लिखी जा सकती है जो लोगों के बीच लोकप्रिय हो, जैसे कि लघु कथा, उपन्यास, नाटक, कामिक्स, झांकी, टी0वी0 धारावाहिक स्क्रिप्ट, फिल्म, स्क्रिप्ट, कविता इत्यादि कोई भी विधा विज्ञान कथा का प्रतिनिधित्व कर सकती है। विज्ञान कथा सामाजिक हो सकती है, सस्पेंस हारर या जासूसी हो सकती है या फिर पूर्णतः कामेडी हो सकती है। जरूरत है बस उसमें वैज्ञानिक तथ्य खूबसूरती व रोचकता के साथ शामिल करने की।

विज्ञान कथा विधा देश में विज्ञान संचार के एक ऐसे ही माध्यम के रूप में विकसित होती दिखाई दे रही है जो अत्यन्त शक्तिशाली है और विज्ञान संचार को एक आन्दोलन के रूप में परिवर्तित कर सकने में सर्वथा समर्थ है। यह भारतीय विज्ञान के प्रति आकर्षण पैदा करेगी। यह भविष्य की वैज्ञानिक प्रगति की झलक भी दिखायेगी और विज्ञान के समाज पर पड़ने वाले प्रभावों का पूर्वावलोकन भी। बस जरूरत है इसे योजनाबद्ध ढंग से विकसित व प्रमोट करने और इसे अन्य विधाओं अर्थात, नाटक, सीरियल, फिल्म इत्यादि के साथ सम्बद्ध करने की। साथ ही साथ समाज में फैले हुए अंधविश्वास को दूर करने एवं वैधानिक नजरिये के विकास में सामाजिक कथाएँ काफी सहायक हो सकती है। आज जिस गति से हमारा देश वैज्ञानिक प्रगति कर रहा है और आम आदमी के जीवन में वैज्ञानिक यंत्रो/उपकरणों की आमद होती जा रही है, ऐसे में विज्ञान कथा की लोकप्रियता बढ़ना कोई आश्चर्य का विषय नहीं है। अगर हम गहराई से देखें तो कह सकते हैं कि बच्चो को अतार्किक एवं भ्रमपूर्ण चीजों से दूर रखने, उनके भीतर वैज्ञानिक दृष्टिकोण उत्पन्न करने तथा उनके मस्तिष्क के समग्र विकास के दृष्टिकोण से विज्ञान कथाएँ अत्यंत ही उपयोगी साबित होगीं.
नोट : यह आलेख  नेशनल बुक ट्रस्ट से प्रकाशित मेरी पुस्तक ' कुम्भ के मेले में मंगलवासी'  की भूमिका से उद्धृत है! अतः  बिना मेरे या नेशनल बुक ट्रस्ट की अनुमति के पूर्णतः या अंशतः कहीं प्रकाशित करना कापीराईट नियमों का उल्लंघन हो  सकता है!